Everest Masala 24times News

Everest Masala: अगर आप भी अपने किचन में एवरेस्ट मसालों का इस्तेमाल करते है, तो ये आज की खबर आपके लिए है. दरअसल, आपको बतादें, कि एवरेस्ट मसालों में हाल ही तौर पर भारी मात्रा में कीटनाशक पाए गए है. जिसके बाद से भारत के अंदर एवरेस्ट कंपनी को बड़ा झटका लग चुका है. हाल ही में एक खबर सामने आई है. जिसमें कि ये बताया जा रहा है, कि सिंगापुर के अंदर एवरेस्ट मसालों में से फीश करी मसाले पर अब रोक लगा दी गई है. जिसके अंदर एक रिसर्च के दौरान Ethylene Oxide को पाया गया है. आपको बतादें, कि ये Pesticides कीटनाशक है, जिसके बाद से सिंगापुर में इस फिश करी मसाले को इंसानों के खाने लायक और उपयुक्त ना बताते हुए इस मसाले पर रोक लगा दी गई है. इस खबर के बाद से एवरेस्ट कंपनी को बड़ा झटका लग चुका है. वहीं जानकारी के लिए बतादें, कि इस खबर की पुक्ता जानकारी हांगकांग के सेंटर फाॅर फूड सेफटी की और से दी गई है.

आपको बतादें, कि मसालों की जांच के दौरान हांगकांग के अंदर जब एवरेस्ट मसालों के अंदर Ethylene Oxide की मात्रा ज्यादा पाई गई तब सिंगापुर में इस फिश करी मसाले पर रोक लगा दी गई. अब क्योंकि इसके अंदर Ethylene Oxide की मात्रा काफी ज्यादा पाई गई तो कि इंसानों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. जिसके चलते इस मसाले पर रोक लगा दी गई है.

क्या होता है Ethylene Oxide?

आपको बतादें, कि Ethylene Oxide का इस्तेमाल मसालों या खाने को माइक्रोएबल कंटेमिनशन का स्तर कम करने के लिए और साथ ही में एग्रीक्लचर की उपज को बढ़ाने के लिए किया जाता है. आपकेा बतादें, कि मसालों या खाने में इसका इस्तेमाल कुछ हद तक ही सीमित है जिससे कि इंसानों की सेहत को इससे कोई नुकसान ना पहुंचा. ऐसे में ये खाने में काफी बुरा प्रभाव डाल कर के उसे हानिकारक भी बना सकता है. अब ऐसे में आपको बतादें, कि एवरेस्ट मसालों के अदर इसकी मात्रा काफी ज्यादा पाई गई है, जिससे कि इससे इंसानों की सेहत को काफी ज्यादा नुकसान भरना पड़ सकता है.

SFA एसएफए ने जारी की रिपोर्ट

एक रिपोर्ट के दौरापन एसएफए ने एक बयान को जारी कर दिया है, जिसमें कि ये कहा है, कि जो भी लोग इस प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते है, तो ऐसे में गंभीर बीमारी के शिकार होने की संभावना है. ऐसे में ये बेहद जरूरी है, कि आप एक बार डाॅक्टर को जरूर चेक करांए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *