Picsart 24 02 19 18 40 22 939 24times News

नई दिल्ली: 18 फरवरी को YNRK-HWH एक्सप्रेस से यात्रा कर रही एक युवा महिला को ट्रेन यात्रा के दौरान कठिन समय का सामना करना पड़ा, क्योंकि सह-यात्रियों ने उसकी सीट पर कब्जा कर लिया और उसे खाली करने से इनकार कर दिया. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे एक पोस्ट में, हालांकि, भारतीय रेलवे ने इस पर तुरंत प्रतिक्रिया दी है.

सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में लिखा है की युवती के पास ट्रेन के स्लीपर कोच में कन्फर्म टिकट था, उसके सह-यात्रियों ने उसकी सीट पर कब्जा कर लिया और उसे खाली करने से मना किया. पहली बार मेरी छोटी बहन ट्रेन से अकेले यात्रा कर रही है. किसी तरह हमने अंतिम समय में अपना टिकट कन्फर्म करा लिया और ट्रेन 3 घंटे देरी से पहुंची. वह अपनी सीट पर गई और वह खाली नहीं थी, एक अंकल जी अपने पूरे परिवार के साथ वहां बैठे थे. इसी पोस्ट में आगे लिखा है की जब उसने उन्हें वहां से उठने के लिए कहा तो वह अंकल ज्ञान देने लगे और उन पर चिल्लाने लगे. यह बहुत जरूरी था इसलिए वह अकेले यात्रा कर रही हैं. कल उसे अपनी प्रैक्टिकल परीक्षा के लिए उपस्थित होना है. अब उसकी तबीयत ठीक नहीं है और उस अंकल ने उसे 3 अन्य यात्रियों के साथ अपर बर्थ पर बैठा दिया और सबसे बुरी बात तो ये है. मैं यहां से कुछ नहीं कर सकता, अब मैं बहुत चिंतित हूँ. क्या मैं उसके लिए कुछ कर सकता हूँ? क्या ऐसी कोई सेवा उपलब्ध है.

एक अलग पोस्ट में, एक्स में लिखा गया और कहा गया है कि उसे सीट नहीं मिली, कोई और व्यक्ति जो बिना टिकट के यात्रा कर रहा था, उसकी जगह पर बैठ गया और उसे 3 अन्य यात्रियों के साथ ऊपरी बर्थ पर बैठने के लिए कहा. जैसे ही उनकी पोस्ट हजारों टिप्पणियों और विचारों के साथ वायरल हुई, यात्रियों को सहायता देने वाले आधिकारिक अकाउंट रेलवे सेवा ने एक्स पर पोस्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की.

रेलवे सेवा की प्रतिक्रिया के कुछ घंटों बाद, एक्स उपयोगकर्ता ने रविवार रात एक नई पोस्ट में एक अपडेट साझा किया जिसमें कहा गया कि मैंने रेल मदद (139) से संपर्क किया और आरपीएफ वहां गई और उसे 20 मिनट के भीतर सीट दे दी. अब वह मेरे साथ है, सुरक्षित धन्यवाद भारतीयरेलवे. इस पोस्ट को अब तक करीब 5 लाख बार देखा जा चुका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *