Japan Earthquake 1 24times News

Japan Earthquake: 1 जनवरी को जापान में आए भीषण भूकंप से अभी तक काफी ज्यादा नुकसान जापान में आ चुका है. बताया जा रहा है, कि भूकंप के कारण से अभी तक वहां पर 100 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके साथ ही 1 जनवरी को आए इस भारी भूकंप के बाद से ही जापान के अदंर अब बचाव अभियान को जारी कर दिया गया है. जिसमें मलबे के नीचे दबे हुए लोगों की खोज बीन जारी है. ​

आपको बतादें, कि 1 जनवरी नए साल के दौरान जापान के अंदर जो भूकंप देखनें को मिला था, उसकी तीव्रता 7.5 बताई गई थी. इसके साथ ही भूकंप के दौरान काफी मात्रा में लोग गायब भी है. जिनकी हाल ही तौर पर तालाश की जा रही है. खबरों के हवाले से ये पता चला है, कि जापान के होंशू द्वीप के इशिकावा क्षेत्र में अभी तक 200 से भी अधिक लोग गायब हो चुके है.
रिपार्ट से ये सामने आया है, कि भूकंप के कारण तटीय क्षेत्रों में बसे हुए लोगों को अपने घरों को छोड़ कर के भागना पड़ा था. जहां पर अब लोगों के घर से बेघर हो चुके है. हाल ही में एक बड़ी रिपार्ट जापान से ये सामने आ रही है, कि जल्द ही भूकंप से प्रभावित इलाकों में बारिश आने की भी संभावना को जताया जा रहा है. आपको बतादें, कि ऐसे में यहां पर भूकंप और बारिश के कारण से भूस्खलन आने की भी संभावना जताई जा रही है. आपको बतादें, कि इस साल की शुरूआत में आए इस भूकंप के कारण से जापान के कई इलाकें बुरी तरह से प्रभावित हुए है. जिसमें सड़के बुरी तरह से टूट चुकी है. इसके साथ ही इमारतें भी बुरी तरह से खतिग्रस्त हुई है. जिसके बाद से बुनियादी ढ़ाचे को भी काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा है. खबरों के हवाले से ये पता चला है, कि अभी तक इस भूकंप के कारण से तकरीबन 62 लोगों की मौत का आका समाने आया है. साथ ही अगर इन इलाकों में बारिश आती है, तो बचाव कार्य में भी खलल पड़ सकता है. ऐसे में आपको बतादें, कि हाल ही में कल के दिन मौत का आकड़ा 55 लोगों तक का बताया जा रहा था. जिसके बाद अब ये आकडा 62 तक पहुंच चुका है.

जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने दिया बड़ा बयान

इस भूकंप के बाद से ही जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने इस बारें में जानकारी दी है, कि जल्द से ज्ल्द उन लोगों को सुविंधाए दी जाए जो कि इस भूकंप में बच गए है. बिजली, पानी और खाने की सेवाओं को जल्द से जल्द लोगों तक पहुंचाया जाना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *